Brij Ka Ras

Sale
₹800.00₹400.00
Out Of Stock

ब्रज की भूमि भगवान श्रीकृष्ण की अलौकिक लीलाओं की साक्षी रही है। ब्रज भूमि के लगभग 1300 गांवों में कृष्ण-लीला के चिन्ह आज भी किसी न किसी रूप में विद्यमान हैं। 



Description

ब्रज की भूमि भगवान श्रीकृष्ण की अलौकिक लीलाओं की साक्षी रही है। ब्रज भूमि के लगभग 1300 गांवों में कृष्ण-लीला के चिन्ह आज भी किसी न किसी रूप में विद्यमान हैं। ब्रज के ज्ञात, अज्ञात लीला स्थलों के वर्तमान और अतीत की जानकारी को समेटे  ‘रस ब्रज रज कौ’  के  रूप में एक संग्रहणीय प्रकाशन  अमर उजाला  ने किया  है।  यह पुस्तक ब्रज की संस्कृति, पौराणिकता, भगवान श्रीकृष्ण के लीला स्थलों को बचाने और संवारने की दिशा में दिलचस्पी  रखने वाले ब्रज-प्रेमियों के लिए विशेष रूप से तैयार  की गई है । ‘रस ब्रज रज कौ’ में ब्रज मंडल के अनेकानेक अज्ञात और अल्पज्ञात स्थलों का विवरण प्रकाशित  है। इसमें सजीव छाया चित्रों के साथ श्रुत परंपराओं (ओरल ट्रेडिशन) को भी संरक्षित किया गया है। चाहे यमुना की अविरलता का विषय हो अथवा ब्रज के वन, सरोवर, गौ धन , विभिन्न लीला स्थलियाँ , ग्राम्य संस्कृति इत्यादि , सभी  का अनुसंधान इस पुस्तक में किया गया है। पुस्तक में ब्रज के ऐसे कई स्थानों का चित्र सहित वर्णन किया गया है, जिनसे ब्रज के लोग आज भी अनभिज्ञ हैं। पाठक इसके जरिये ब्रज की महिमा का न सिर्फ आनंद  उठा सकेंगे बल्कि अपने संग्रह में भी संजो कर रख सकेंगे।

 
Specification
No of pages 566
Language Hindi
Publisher Amar Ujala Limited
Publication Date
Cover Type Hard Cover
Author amarujala
Isbn Number
Ratings & Reviews

CATEGORY